Feeds:
Posts
Comments

Posts Tagged ‘manju’


 

.

बरस महीने दिन 

छोटे छोटे होते 

अदृश्य ही हो जाते हैं 

और मैं 

बैठी रहती हूँ 

अभी भी 

उनको उँगलियों पे 

गिनते हुए 

बार बार 

हिसाब लगाती हूँ 

मगर

जिन्दगी का गणित है कि

सही बैठता ही नहीं

.

.

Read Full Post »


-:-

मिट्टी के घरौंदों को क्या आंधी से डराता है 

ये तो वो हैं, जिन्हें तूफ़ान हर रोज  जगाता है 

..

टूटेंगे बिखरेंगे..  और फिर से बनेंगे 

फितरत है ये इनकी गिर गिर के उठेंगे

-:- 

Read Full Post »


         

तुम क्या जानो प्राण हमारे

तुम्हे हृदय ने कितना चाहा

कितना मान है किया तुम पर

तुमको कितनी बार सराहा

           -:-

बूझ लिया करते थे तुम भी

बिना कहे ही मेरी बातें

आँखों-आँखों कहते सुनते

कट जाया करती थीं रातें

         -:-

काँटा मुझको चुभता था

तो पीड़ा, तुमको होती थी

मेरे हिस्से के आंसू … ले,

आँख तुम्हारी रोती थी

          -:-

आज वही हूँ मैं और तुम भी

यूँ तो वैसे ही दिखते हो

फिर भी कुछ तो बदल गया

जो अनचीन्हे से लगते हो !!

-:-

 

Read Full Post »

उधेड़ और बुन ….


यूँ तो जीवन में,  
बुनना, उधेड़ना 
और फिर बुनना 
चलता ही रहता है 
लेकिन सच कहो 
क्या फिर से 
टूटे हुए धागों को 
जोड़कर 
नया सा करना,  
बुनकर आकार देना
आसान होता है ?
…नहीं न ! 
तो क्यूँ नहीं 
सीख लेते नाजुक फंदों 
को सहेजना ताकि 
उधेड़ने की नौबत ही न आये 
और बरसों बरसों तक 
बनी रहे गरमाई 
रिश्तों के स्वेटर की 

Read Full Post »


मांग ली है मैंने 
अर्जुन से ..
महाभारत वाली दृष्टि
अब मेरी नज़र में
अपने या पराये नहीं,
बस युद्ध है !
     
      *

हृदय ने भी 
बांच ली है
कृष्ण की पूरी गीता
अब तो बस
कर्म ही 
धर्म है कर्त्तव्य है !!

 

Read Full Post »


१. 

तोड़ लो

मगर  ख़ामोशी  से,

सितारों  के  फूल…

चाँद  न जागे

सन्नाटे का जादू  टूट  जायेगा

२.

ख़ामोश  सी फिजायें

चुप चुप  सा  है  समां

फ़िर भी रात

सन्नाटी   नहीं

चाँद का  साथ…..

३.

यूँ तो

ख़ामोश है रात

पर सन्नाटे का भी

अपना अलग राग है

सुनो तो कान देकर –

सुनाई देंगी

रात  की सिसकियाँ…..



Read Full Post »